इस वर्ष 2 /08/2018 दिन रविवार तिथि सप्तमी विधा अष्टमी एवं रोहिणी नक्षत्र रात्रि 9 बजे से अर्धरात्रि में श्री कृष्ण जन्माष्टमी महापर्व उत्सव मनाने केलिए अति उत्तम एवं शास्त्रोक्त है  प्रातः श्नान कर पित्री तर्पण श्राद्ध के द्वारा पितरों को तृप्त करें तदुपरांत श्री कृष्ण जन्माष्टमी व्रत का संकल्प करें भगवान श्री कृष्ण जी का माँ राधा सहित सामर्थ्य अनुसार पूर्ण वैभव के साथ अंतर्मन को प्रभु चरणों में स्थिर कर पंचोपचार/षोडशोपचार पूजन करें ओं नमो भगवते वासुदेवाय नमः महामंत्र का अधिक से अधिक जाप करें ! रात्रि काल तक व्रत सहित श्री कृष्ण शरणम-मम का निरंतर जाप करें ! अर्धरात्रि को नहा कर नारियल या खीरे को धोकर भगवान को समर्पित करें इनमें परात्पर ब्रह्म भगवान श्री कृष्ण जी का जन्म हुआ मान कर पूजन आरती करें दूध,दहीं,माखन,मिश्री,फल,मिठाई,एवं पंजीरी का भोग समर्पित करें फिर दिन भर का पूजन व्रत भगवान जी के चरणों में अर्पित कर आत्म कल्याण की भावना करें और निवेदित प्रशाद ग्रहण करें !! हरी ॐ  तत्सत !!